Select Page

जिसे कोई नहीं जानता उसे रब जानता हैं, राज़ को राज़ ना रहने दो वो सब जानता हैं,
अगर मांगना हैं तो उस साईं से मांगो, जो जुबां पे आने से पहले दिल की दुआ जानता हैं। शुभ प्रभात

बाबा जी मेरा भी खाता खोल दो शिरडी दरबार में, बाबा जी आता जाता रहूँ मैं शिरडी की पवित्र भूमी पर
बाबा जी जो भी सेवा हो मेरी लगा देना, बस अपने चरणों का दास बना कर शिरीडी में रख लेना। शुभ प्रभात

जो कल था उसे भूलकर तो देखो, जो आज हैं उसे जी कर तो देखो,
आने वाला पल खुद ही सवर जाएगा, एक बार ओम साईं राम बोल कर तो देखो। शुभ प्रभात

जो कुछ मिला हैं तुझे तेरा करम हैं, तुने बहुत कमाया ये तेरा भरम हैं,
ये तो विधाता की खींची लकीर हैं, पल में अमीर हैं, पल में फ़क़ीर हैं। शुभ प्रभात

साईं तुम हो मेरे दीन-बन्धु, मात-पिता चरणों में तेरे हरपल हो मेरा नमन
आप दे दो मुझे शक्ति अपार बाबा, तुम दे दो मुझे भक्ति अपार बाबा। शुभ प्रभात

जिन आँखों में साईं बस जायेंगे उन आँखों में अश्क कहाँ से आयेंगे,
साईं नहीं होने देते अपने बच्चों को उदास आ जाते हैं झट से अपने बच्चों के वो पास। शुभ प्रभात

साईं के चरणों में जो मिल जाती मुझको भी शरण
सफल हो जाते मेरे अगले पिछले सभी जनम। शुभ प्रभात

जो करता विश्वास तुम पर बाबा, आता शरण में जब कोई आपकी बाबा,
वो मिल जाये आपमें ही साईं गुरुवर, फिर आत्मा और शरीर का क्या हैं डर। शुभ प्रभात

जो कोई सुनता साईं बाबा के वचन, जीवन को करते प्रभु पर समर्पण,
जो भी करता अपने साईं से सच्चा प्यार, रहती सदा जीवन में सुख की बहार। शुभ प्रभात

किसी ने पूछा कि “उम्र” और “जिन्दगी” में क्या फर्क हैं ? बहुत सुन्दर जवाब,
जो बाबाजी के बिना बीती वो “उम्र” और जो बाबाजी के साथ बीती वो “जिन्दगी”। शुभ प्रभात

ई तेरा ये मुखड़ा, दर्शन से मिटता हैं दिल का हर दुखड़ा
दर्शन नित पाएं ऐसा भाग्य हमें देना, सेवा की अपनी बाबा सौभाग्य हमें देना। शुभ प्रभात

शिरडी वाले साईं बाबा, तेरे दर पर आना चाहता हैं सवाली,
लब पे दुवायें भी हैं, आखों में आँसू भी हैं, बुला लो बाबा इस सावाली को शिरडी। शुभ प्रभात

आशा हैं साईं के भजनों में रम जाएँ,
साईं तेरी भक्ति में ऐसे लीन हों, की जानवर से इंसान हो जाएँ। शुभ प्रभात

जीवन में अब हर पल अलग ही सुकून हैं
साईं तू हैं, तभी तो जीने का जुनून हैं। शुभ प्रभात

साई कहते हैं, पल में अमीर हैं, पल में फ़क़ीर हैं,
अच्छे करम कर ले बन्दे, ये तो बस तक़दीर हैं। शुभ प्रभात

आखें सुनी मन रोता हैं, बाबा हमारा क्यों सोता हैं, खोल के आखें देख ले बाबा तेरे बिना यहाँ क्या होता हैं, लौट के आजा साई हमारे, अपनी आखें खोलो, साई बाबा बोलो, साई बाबा बोलो! शुभ प्रभात

छू जाते हो मुझे कितनी ही बार, ख्वाब बनकर मेरे साईं राम,
ये दुनिया ना जाने फिर फिर क्यों कहती हैं, के तुम मेरे करीब नहीं, मेरे साईं राम। शुभ प्रभात

ना मुस्कुराने को जी चाहता हैं, ना आँसू बहाने को जी चाहता हैं,
लिँखू तो क्या लिखू सांई तेरी याद में, बस तेरे पास आने को जी चाहता हैं। शुभ प्रभात

दुःख हो या फिर सुख हो, सांई जी को हमेशा याद करो, सहारा हैं साईं जी हम सबका, बाबा से ही फरियाद किया करो,
चिन्ता चिता समान हैं, चिंता में ना अपना समय बरबाद करो, कैसे भी हो हालात सांई जी पर ही विश्वास करो। शुभ प्रभात

साईं तेरे रूप हज़ार, दे दो दर्शन बारम्बार ।। शुभ प्रभात

For Daily Updates Follow Us On Facebook

मेरे साईं मुझ पर रहम करना, बच्चों का अपने आप भरण करना,
हर जगह पर बसते हो बाबा तुम, निराकार और सर्वत्र बसते हो बाबा तुम। शुभ प्रभात